राष्ट्रभाषा नव-साहित्यकार परिषद के संस्थापको मे से एक और वर्तमान मे महासचिव 17 दिसम्बर 1953 मे तत्कालीन जिला मेरठ और अब बागपत के गाँव मीतली मे जन्में पी. के. शर्मा याने पवनचंदनकी काव्य रचनाओ मे बागपत के खरबूजों की मिठास का रसास्वादन किया जा सकता है। कला स्नातक पवन चंदन का मन कवि महेन्द्र प्रसाद चातक की कविता सुन हिलोरें लेने लगा और उन्होने वर्ष 1974 मे लेखन की शुरूआत की। सन 1977 की जनता पार्टी की खिचड़ी सरकार पर दैनिक नवभारत टाइम्स में प्रकाशित कटाक्ष से प्रकाशन का जो क्रम आरंभ हुआ वो आज तक निरंतर जारी है

दो दल मिल जाएं आपस मे तो बन जाता है दल-दल
यहां तो छह छह मिल बैठें हैं होय लडाई हर पल
होय लडाई हर पल फंसी भंवर में गाड़ी

इस गाड़ी के ब्रेक मार जयी राजनारायण की दाढ़ी
जनता की सरकार यहाँ फस बैठी दल दल में
बेमौसम का मानसून जब आया जनता दल में

तत्पश्चात स्वर्गीय श्री राधेश्याम प्रगल्भ अवसर और श्री अशोक चक्रधर के प्रोत्साहन से पल्लवित काव्य रचनाओं की गूँज मंचो के माध्यम से जहाँ जहाँ तक सुनाई पड़ी चंदन की लेखनी की धार और व्यंग्य की तीखी मार की विद्वत्जनों द्वारा खूब सराहना की गयी। पहला मंच मिला दिल्ली की महावीर वाटिका मे, जिसमें सान्निध्य रहा काका हाथरसी, देवराज दिनेश, माणिक वर्मा सरीखे दिग्गज कवियों का और चंदन की तत्कालीन गृहमंत्री चौधरी चरण सिंह के बीमार होने उनकी कारगुजारियों पर सुनाई गयी व्यंग्य की इन पंक्तियों ने खूब वाह वाह लूटी कि

तबियत मचली मंत्री जी की हालत डांवाडोल
दिल का दर्द उठा था उनको नही सके बोल
नही सके बोल के कैसा दर्द है उनका
डॉक्टर बोले झट से ले लो एक्सरे इनका
लिया एक्सरे समझे चंदन कैसा दर्द है मंत्री का
हड्डी-पसली कुछ नही आई फोटो आया इंदिरा जी का

इस कार्यक्र्म का संचालन किया प्रगल्भ जी ने। सिर्फ गद्द ही नहीं पद्द मे भी भरपूर लिख छप रहे है। इनके व्यंग्य पाठकों को इतने अदिक भाये कि उन्होने अपने नाम से राष्ट्रीय स्तर के अखबारों मे अपने नाम से छपवाये। जिसके लिये अखबारो ने खेद व्यक्त किया। इनकी रचनायें राष्ट्रीय सहारा, बालवाणी, नई दुनिया, अमर उअजाला, दैनिक ट्रिब्यून इत्यादि मे खूब छप रही है। कलमवाला, फिल्म फैशन संसार पत्रिकाओं मे संपादकिय विभाग से जुडे रहे।तेतालाऔर नवें दशक के प्रगतिशील कवि काव्य संग्रह के एक प्रमुख हस्ताक्षर। संप्रति भारतीय रेल सेवा से संबंद्ध।


साहित्य शिल्पी पर इनकी रचनाओ के लिये यहाँ क्लिक करें।

साहित्य शिल्पी के कुछ प्रमुख रचनाकार

अजय कुमार अजय अक़्स
अखिलेश अजय यादव
अदिति मजुमदार डॉ॰ अंजना संधीर
अनवार आलम अनिल कान्त
डॉ. अनिल चड्डा अनिल पाराशर
अनिल पुसदकर अनुपमा चौहान
अब्दुल रहमान मन्सूर अभिषेक “कार्टूनिस्ट"
अभिषेक सागर अम्बरीष श्रीवास्तव
अमन दलाल अमित कुमार राणा
अमितोष मिश्रा डॉ० अरविन्द मिश्र
अलबेला खत्री अवनीश एस. तिवारी
अविनाश वाचस्पति प्रो. अश्विनी केशरवानी
डॉ. अ. कीर्तिवर्धन
डॉ० सुरेश तिवारी सुरेश शर्मा
संदीप कुमार सीमा सचदेव
संगीता पुरी सुमन बाजपेयी
संजीव सुशील कुमार
समीर लाल संजीव वर्मा "सलिल"
सुधा भार्गव डॉ० सुधा ओम ढींगरा
सत्यजीत भट्टाचार्य सुभाष नीरव
सतपाल ख्याल सुशील छोक्कर
सुनीता चोटिया सुषमा गर्ग
संजीव तिवारी सूरज प्रकाश
स.र. हरनोट सुदर्शन प्रियदर्शनी
सनत कुमार जैन सुमित सिंह
सुमन 'मीत' सुषमा झा
सुलभ 'सतरंगी' डॉ० सुभाष राय
डॉ० मोहम्मद साजिद खान संगीता मनराल
संजय जनांगल सरोज त्यागी

स्लाईड शो...

साक्षात्कार पढ़ें... पुस्तक चर्चा...

Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket Photobucket

बातचीत और परिचर्चा

नवीनतम प्रस्तुतियाँ...

Blogger द्वारा संचालित.

आपने कहा ...

आपकी भाषा में..

साहित्य शिल्पी आपकी भाषा में। Read Sahitya Shilpi in your own script

Roman(Eng) ગુજરાતી বাংগ্লা ଓଡ଼ିଆ ਗੁਰਮੁਖੀ తెలుగు தமிழ் ಕನ್ನಡ മലയാളം हिन्दी

स्थाई पाठक बनें ...

नवीनतम प्रकाशन पाने के लिए इस चिह्न पर चटका लगाएं

साहित्य शिल्पी

फेसबुक पर पसंद करें...

आमंत्रण

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें। sahityashilpi@gmail.com आईये कारवां बनायें..